बिहार में होगी ब्राह्मी की खेती, किसान होंगे समृद्ध

Brahmi

नालंदा समेत सूबे की धरती अब उगलेगी सोना। यहां नकदी फसल ब्राह्मी की खेती की जाएगी। इससे यहां के किसानों में समृद्धि आएगी, वहीं लोगों की स्मरण शक्ति बढ़ाने में भी यह फसल कारगर साबित होगी।

सूबे का एकलौता नूरसराय हॉर्टिकल्चर कॉलेज के वैज्ञानिक शोध में जुट गये हैं। यहां की मिट्टी व जलवायु में ब्राह्मी के बेहतर उपज लेने की रणनीति पर काम कर रहे हैं। वैज्ञानिकों ने यह साबित कर दिया है कि उनके द्वारा खोजी गयी ब्राह्मी की नई नस्ल से सूबे में बेहतर उत्पादन किया जा सकता है।

कॉलेज के तीन वैज्ञानिक इसकी नई नस्ल की शोध में जुटे हैं। अभी वे उसके आचरण व यहां के वातावरण के कारण आने वाले बदलाव का बारीकी से अध्ययन कर रहे हैं। कृषि वैज्ञानिक डॉ. महेंद्र पाल, डॉ. सतीश कुमार व डॉ. वीर बहादुर ने बताया कि ब्राह्मी को वानस्पतिक रूप से सेंटेला एसिएटिका के नाम से जाना जाता है। इसका उपयोग बुद्धिवर्द्धक टॉनिक बनाने में होता है।

इसकी पत्तियों का पावडर बनाकर गर्म पानी या गर्म दूध में मिलाकर पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। साथ ही ब्रेन टॉनिक के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। नालंदा जिला समेत पूरे सूबे के किसान सामान्य मौसम में इसकी बेहतर उपज ले सकते हैं। बाजार भाव को देखते हुए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इसकी खेती करने वाले किसानों को पारंपरिक खेती से कई गुना अधिक लाभ होगा। बरसात के मौसम में इसकी रोपाई की जाती है। इसके लत्तर को काटकर खेतों में लगाया जाता है। रोपाई के100 दिन बाद से इसकी पत्तियों व तने को काटकर दवा बनायी जा सकती है।

Source: LiveHindustan

Advertisements
This entry was posted in Latest. Bookmark the permalink.

Thanks to follow this web site

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s